आगन्तुक संख्या
web counter
रासायनिक विधि

क्र0सं0

नाशिकीट

रासायनिक उपचार

3

आंकुरबेधक
(शूट बोरर)

अ– ग्रीष्मकाल में फसल पर 15 दिन के अन्तर पर तीन बार मेटासिड 50 प्रतिशत घोल 1.0 ली0 को 625 ली0 पानी में घोलकर प्रति हैक्टेयर की दर से छिड़काव।
ब–कोराजॆन 20 एस0सी0 का 375 मिलीहे0 की दर से 800 लीटर पानी में घोल बनाकर जड़ के पास स्प्रयर से छिड़काव करके 24 घण्टे बाद खेत की सिंचार्इ कराना।

4

चोटीबेधक
(टाप बोरर)

अ– जून के अन्तिम या जुलाई के प्रथम सप्ताह में तृतीय पीढ़ी के विरुद्ध अधिकतम् अण्डरोपण की अवधि में 30कि0ग्रा0 कार्बोफ्यूरान 3 जी0 प्रति हैक्टेयर की दर से पौधों के समीप नमी की दशा मं डालना।

5

गन्ना बेधक
(स्टाक बोरर)

मोनोक्रोटोफास 36 प्रतिशत घोल को 2.1 ली0 प्रति है0 की दर से 1250 ली0 पानी में घोलकर दो बार मध्य अगस्त एवं मध्य सितम्बर में छिड़काव करना।

6

काला चिकटा (ब्लैक बग)

ग्रीष्मकाल में प्रकोप होने पर 625 ली0 पानी में घोलकर किसी एक कीटनाशक का प्रति हैक्टेयर की दर से छिड़काव करना।

अ– क्लोरपायरीफॉस 20 प्रतिशत घोल1.0 ली0/है0।

ब– फेन्थियान 100 प्रतिशत घोल 0.75 ली0/है0।

स– डाईमेथोएट 30 प्रतिशत घोल 0.825 ली0/है0।

द– मेटासिड 50 प्रतिशत घोल 0.6 ली0/है0।

य– डाइक्लोरवास (नुवान) 76 प्रतिशत घोल 0.25 ली0/है0।

7

थ्रिप्स

मई–जून माह में प्रकोप होने पर 625 ली0 पानी में किसी एक कीटनाशक का घोल बनाकर छिड़काव करना।

अ– डाईमेथोएट 30 प्रतिशत घोल 1.0 ली0/है0।

ब– इकालक्स 25 प्रतिशत 1.0 ली0/है0।

स– नुवाक्रान 36 पतिशत घोल 0.75 ली0/है0।

द– एल्सान 50 प्रतिशत घोल 0.50 ली0/है0।

8

टिड्डा
(ग्रासहॉपर)

प्रकोप होने पर जुलाई–अगस्त में किसी एक का 1250 ली0 पानी में घोल बनाकर छिड़काव।

अ– बायोनीम/जवान 1.25 ली0/है0 (नीम प्रोडक्ट)।

ब– फेनवलरेट 0.4 प्रतिशत धूल 25.0 कि0ग्रा0/है0 की दर से धूसरण।

1 2 3 4 5 6 7 8 9 10 11 12