आगन्तुक संख्या
web counter
 

उ0प्र0 गन्ना शोध परिषद् की नियमावली के नियम–40 के अधीन बनायी गयी तथा नियम–55 के अधीन अध्यक्ष, गवर्निंगबॉडी तथा सभापति द्वारा अनुमोदित

11–पदों की पूर्ति
11–5 प्रथम नियुक्ति के साथ परिषद् के प्रत्येक कर्मचारी को राष्ट्रीयता, की घोषण पत्र, आयु प्रमाण पत्र, शैक्षिक योग्यताओं के प्रमाण–पत्रों की प्रमाणित प्रतियॉं, दो राजपत्रित अधिकारियों द्वारा दिया गया चरित्र प्रमाण–पत्र, नियुक्ति स्थान के मुख्य चिकित्सा अधिकारी द्वारा दिया गया स्वास्थ्य प्रमाण–पत्र, गोपनीयता एवं नियम प्रतिबद्धता शपथ–पत्र, कर्मचारी की चल–अचल सम्पत्ति का घोषणा–पत्र, अनुसूचित जाति/अनुसूचित जनजाति अथवा पिछड़ी जाति का प्रमाण–पत्र अथवा अन्य प्रकार के संरक्षण, जिस श्रेणी में अभ्यर्थी अपने को बताता हो और जिस संरक्षण की सुविधा चाहता हो तद्विषयक सक्षम अधिकारी द्वारा प्रदत्त प्रमाण–पत्र (यदि आवश्यक हो) तथा उस पद के लिये यदि निर्धारित हो तो प्रतिभूति की धनराशि, योगदान के समय परिषद् में या जैसा निर्देश दिया जाये, जमा करना आवश्यक होगा। उक्त प्रमाण–पत्रों/घोषणा–पत्रों/धनराशि के अभाव में कर्मचारी का योगदान स्वीकार नहीं किया जा सकता है। इसके अतिरिक्त निर्धारित प्रारूप पर अन्य व्यक्तिगत सूचना भी सत्यापनार्थ अभ्यर्थी द्वारा देय होंगी। परिषद् में पदोन्नति पर कार्यभार ग्रहण करने वाले कर्मचारियों, परिषद् में विलयन के पूर्व गन्ना शोध संगठन में कार्यरत कर्मचारियों एवं प्रतिनियुक्ति पर आये कर्मचारियों पर यह नियम लागू नहीं होगा।

11–6

उ0प्र0 शासन द्वारा समय–समय पर निर्गत शासनादेश के अन्तर्गत निर्धारित नीति के अनुसार अधिकारियों/कर्मचारियों की नियुक्ति में अनुसूचित जाति, अनुसूचित जनजाति, पिछड़ी जाति तथा अन्य वर्गों के आरक्षण का प्राविधान परिषद् की विभिन्न सेवाओं में रहेगा।

12–परिवीक्षा काल, स्थायीकरण, स्थानान्तरण, ज्येष्ठता सूची, पदोन्नति, सेवासमाप्ति सेवानिवृत्ति
12–1 परिषद् में सेवाओं के लिये स्थायी पदों के प्रति नियुक्ति की तिथि से दो वर्ष तक की अवधि को परिवीक्षाकाल माना जायेगा। परिवीक्षाकाल में सेवायें नितान्त अस्थायी मानी जायेगीं तथा बिना किसी पूर्व सूचना के समाप्त की जा सकेगीं। नियुक्ति अधिकारी द्वारा किसी भी कर्मचारी का परिवीक्षा काल कुल मिलाकर 04 वर्ष तक बढ़ाया जा सकता है किन्तु प्रतिबन्ध यह है कि इस प्रकार किसी एक आदेश द्वारा बढ़ाया गया परिवीक्षाकाल 01 वर्ष से अधिक नहीं होगा।
12–2 परिवीक्षाकाल के संतोषपूर्ण समाप्ति के बाद कर्मचारी के स्थाईकरण हेतु नियुक्ति अधिकारी द्वारा स्थाईकरण आदेश प्रसारित किया जायेगा। जब तक नियुक्ति अधिकारी द्वारा स्थायीकरण का लिखित आदेश प्रसारित न कर दिया गया हो तब तक वह स्थायी नहीं माना जायेगा, भले ही वह प्रस्तर 12–1 में निर्धारित यथाविधि बढ़ाये गये परिवीक्षाकाल को पूर्णै कर चुका हो।
12–3

परिषद् में कार्यरत किसी कर्मचारी/अधिकारी को कार्य के हित में या प्रशासनिक आधार पर मुख्यालय से किसी भी गन्ना शोध संस्थान अथवा गन्ना शोध केन्द्र पर या किसी गन्ना शोध संस्थान या केन्द्र से दूसरे गन्ना शोध संस्थान या केन्द्र पर अथवा मुख्यालय पर स्थानान्तरित अथवा पदस्थित किया जा सकता है। साथ ही परिषद् आवश्यकतानुसार अधिकारियों/कर्मचारियों का उ0प्र0 में या अन्यत्र एक स्थान से दूसरे स्थान को स्थानान्तरण शोध कार्य के हित में कर सकेगा।

12–4

परिषद् के कर्मचारियों की ज्येष्ठता उ0प्र0 शासन द्वारा घोषित उ0प्र0 सरकारी सेवक ज्येष्ठता नियमावली 1991 तथा समय–समय पर किये गये संशोधनों के आधार पर निर्धारित की जायेगी।
1 2 3 4 5 6 7 8 9 10 11 12 13 14 15 16 17 18 19